About Moon In Hindi Essay

About Moon in Hindi – चांद के बारे में जानकारी

Facts about Moon in Hindi

चाँद हमारी पृथ्वी का इकलौता प्राकृतिक उपग्रह है। वैज्ञानिकों का मानना है कि आज से 450 करोड़ साल पहले ‘थैया‘ नामक उल्का पृथ्वी से टकराया था जिसकी वजह से पृथ्वी का कुछ हिस्सा टूट कर अलग हो गया, जो कि चाँद बना। उस समय पृथ्वी द्रव रूप में थी। चाँद 27.3 दिनो में पृथ्वी का एक चक्कर पूरा करता है और पृथ्वी के समुंदरों पर आने वाले ज्वार और भाटे के लिए जिम्मेदार है। आइए चाँद के बारे में कुछ रोचक तथ्य जानते हैं –

1. अब तक सिर्फ 12 मनुष्य चाँद पर गए है। 1972 के बाद से, यानि कि पिछले 46 साल से चांद पर कोई अंतरिक्ष यात्री नही गया है।

2. चांद धरती के आकार का केवल 27% ही है।

3. चाँद का वजन लगभग 81,00,00,00,000(81 अरब) टन है।

4. पूरा चाँद आधे चाँद से 9 गुना ज्यादा चमकदार होता है।

5. अगर चाँद गायब हो जाए तो पृथ्वी पर दिन मात्र 6 घंटे का रह जाएगा।

6. जब अंतरिक्ष यात्री एलन सैपर्ड चाँद पर थे तब उन्होंने एक golf ball को hit मारा था जोकि तकरीबन 800 मीटर दूर तक गई। आप ऊपर दी वीडियो में देख सकते हैं।

7. अगर आप का वजन पृथ्वी पर 60 किलो है तो चाँद की low gravity की वजह से चाँद पर आपका वजन 10 किलो ही होगा। यही कारण है कि चांद पर अंतरिक्ष यात्री ज्यादा उछलकूद कर सकते हैं।

8. जब सारे अपोलो अंतरिक्ष यान चाँद से वापिस आए तब वह कुल मिलाकर 296 चट्टानों के टुकड़े लेकर आए थे जिनका द्रव्यमान(वजन) 382 किलो था।

9. Moon का सिर्फ 59% हिस्सा ही पृथ्वी से दिखता है।

10. चाँद पृथ्वी के इर्द-गिर्द घूमते समय अपना सिर्फ एक हिस्सा ही पृथ्वी की तरफ रखता है। इसलिए चाँद का दूसरा भाग आज तक पृथ्वी से किसी मनुष्य ने नहीं देखा। लेकिन अंतरिक्ष यानों की सहायता से चांद के दूसरे हिस्से की तस्वीरें ली जा चुकी हैं।

11. चाँद का व्यास पृथ्वी के व्यास का सिर्फ चौथा हिस्सा है और लगभग 9 चाँद पृथ्वी में समा सकते हैं।

12. क्या आपको पता है चाँद हर साल पृथ्वी से 4 सेंटीमीटर दूर खिसक रहा है। अब से 50 अरब साल बाद चाँद धरती के इर्द-गिर्द एक चक्कर 47 दिन में पूरा करेगा जो कि अब 27.3 दिनो में कर रहा है। पर ये होगा नहीं क्योंकि अब से 5 अरब साल बाद ही पृथ्वी सूर्य के साथ नष्ट हो जाएगी।

नील आर्मस्ट्रांग चाँद पर उतरते हुए

13.नील आर्मस्ट्रांग ने चाँद पर जब अपना पहला कदम रखा था तो उससे जो निशान चाँद की जमीन पर बना, वो अब तक है, और अगले कुछ लाखों सालो तक ऐसा ही रहेगा। इसका कारण है चांद पर हवा नही है जो इसे मिटा दे।

नील आर्मस्ट्रांग का चांद पर पहला कदम

14. नील आर्मस्ट्रांग जब पहली बार चांद पर चले थे, तो उनके पास Wright Brothers के पहले हवाई जहाज का एक टुकड़ा था।

15. क्या आपको पता है कि 1950 के दशक के दौरान अमेरिका ने परमाणु बम से चाँद को उड़ाने की योजना बनाई थी।

16. सौर मंडल के 181 उपग्रहो में चाँद का आकार 5 वे नंबर पर है।

17. चाँद का क्षेत्रफल अफ्रीका के क्षेत्रफल के बराबर है।

18. चाँद पर पानी भारत की खोज है। भारत से पहले भी कई वैज्ञानिको का मानना था कि चाँद पर पानी होगा परन्तु किसी ने खोजा नही।

19. अगर आप अपने इंटरनेट की स्पीड से खुश नहीं हैं तो आप चांद का रुख कर सकते है. जी हां, नासा ने world record बनाते हुए चांद पर wi-fi कनेक्शन की सुविधा उपलब्ध कराई है जिसकी 19 mbps की स्पीड बेहद हैरतअंगेज है।

20. चाँद के दिन का तापनान 180°C तक पहुँच जाता है जब कि रात का -153°C तक।

21. Moon पर मनुष्य द्वारा छोडे गए 96 बैग ऐसे है, जिनमें चाँद पर जाने वाले अंतरिक्ष यात्रियों का मल,मूत्र और उल्टी है।

22. पृथ्वी पर अगर चंद्र ग्रहण लगा है तो चांद पर सूर्य ग्रहण होगा।

23. अमेरिकी सरकार ने चाँद पर आदमी भेजने और ओसामा बिन लादेन को ढूंढने में बराबर समय और पैसा खर्च किया : 10 साल और 100 करोड़ डॉलर।

24. ये जानकर हैरानी होगी कि आपके मोबाइल फोन में अपोलो 11 यान के चंद्रमा लैंडिग के समय यूज किये गए कंप्यूटर की तुलना में अधिक कंप्यूटिंग शक्ति है।

25. Apollo-11 यान का चंद्रमा लैंडिग के समय बनाया गया Original टेप मिट गया था यह गलती से दोबारा इस्तेमाल कर लिया था।

26. चंद्रमा गोल नही है, बल्कि यह अंडे के आकार जैसा है।

27. चंद्रमा की गुरुत्वाकर्षण शक्ति कम होने के कारण इसका कोई वायुमंडल नहीं है। वायुमंडन ना होने की वजह से सौर वायु और उल्कापिंड के आने का खतरा लगातार बना रहता है।

28. चांद पर करीब 1,81,400 किलो का मानव निर्मित मलबा पड़ा हुआ है जिसमें 70 से अधिक अंतरिक्ष यान और दुर्घटनाग्रस्त कृत्रिम उपग्रह भी शमिल हैं।

More Science Facts in Hindi

Tags : About Moon in Hindi , Chand ki Jankari.

Full Information about Moon in Hindi

चाँद के बारे मे जानकारी – चंद्रमा का मानव इतिहास से बड़ा गहरा ताल्लुक रहा है। बच्चों को चन्दा मामा की कहानियां सुनाई जाती हैं, महिलायें चंद्रमा को देखकर अपने पति की लंबी आयु की कामना करती हैं और हमारे पुराणों में तो चंद्रमा को देवता का भी दर्जा दिया गया है। चन्द्रमा का इतिहास बहुत पुराना है, धरती पर इंसानों की उत्पत्ति से भी काफी पहले से चंद्रमा का अस्तित्व था।

चंद्रमा, वैज्ञानिकों के लिए हमेशा एक अनसुलझी पहेली रहा था लेकिन जैसे जैसे विज्ञान बढ़ता गया वैसे वैसे चंद्रमा के कई रहस्य खुलते गये। 1969 में नील आर्मस्ट्रांग चंद्रमा पर पहुँचने वाले पहले वैज्ञानिक बने। अब तक कई वैज्ञानिक चाँद पर जा चुके हैं। आज हम आपको चाँद से जुडी कुछ रहस्यमयी जानकारियां बतायेंगे –

1. चंद्रमा पर वातावरण (atmosphere) नहीं है इसलिये चंद्रमा पर कोई आवाज सुनाई नहीं देती
 
2. चन्द्रमा पर आसमान हमेशा काला दिखाई देता है
 
3. चंद्रमा पर वातावरण ना होने की वजह से सूर्य की पराबैंगनी किरणें और कॉस्मिक किरणें सीधे अंदर पहुँच जाती हैं इसीलिए चंद्रमा पर दिन में तापमान 107 डिग्री सेल्सियस हो जाता है जो बहुत ज्यादा गर्म है। और वातावरण न होने की वजह से ही रात को तापमान -153 डिग्री सेल्सियस हो जाता है यानि भयंकर सर्दी, इसलिए चंद्रमा पर जीवों की उत्पत्ति अभी संभव नहीं है
 
4. धरती से चंद्रमा का केवल 60% हिस्सा ही दिखाई देता है (और कभी कभी 50%)

5. चंद्रमा धरती से हर साल 3.8 सेंटी मीटर दूर होता जा रहा है

6. चंद्रमा पर गुरुत्वाकर्षण (Gravity) धरती के गुरुत्वाकर्षण से 6 गुना कम है यानि चंद्रमा पर 60 किलो के इंसान का वजन केवल 10 किलो ही बैठेगा

7. अब तक 12 वैज्ञानिक चाँद पर जा चुके हैं।
 
8. चाँद पर पहुँचने वाले सबसे पहले वैज्ञानिक नील आर्मस्ट्रॉन्ग (1969) हैं और Gene Cernan (1972) सबसे आखिरी वैज्ञानिक हैं।
 
9. चंद्रमा पर छोटे छोटे भूकंप भी आते रहते हैं
 
10. चंद्रमा धरती का इकलौता प्राकृतिक उपग्रह है।
 
11. सौर मंडल में बहुत सारे चंद्रमा मौजूद हैं और हमारा चंद्रमा पाँचवा सबसे बड़ा चंद्रमा है
 
12. पृथ्वी का वजन चाँद से 80 गुना ज्यादा है
 
13. चाँद 27 दिन, 7 घंटे, 43 मिनट, 11.6 सेकेण्ड में पृथ्वी का एक चक्कर पूरा करता है

14. एक प्रचलित सिद्धांत के अनुसार, चंद्रमा पहले धरती का ही हिस्सा था लेकिन एक बड़ी चट्टान या उल्कापिंड या उपग्रह के टकराने से धरती का कुछ हिस्सा टूट कर गिर गया जिसे चंद्रमा कहते हैं।

15. NASA चंद्रमा पर एक permanent space station बनाना चाहता है इसलिए 2019 में फिर से वैज्ञानिकों को चाँद पर भेजा जा सकता है

16. चंद्रमा की धरती से दूरी 384403 किलोमीटर है

17. चंद्रमा पर पानी नहीं है लेकिन वैज्ञानिकों का दावा है कि चंद्रमा पर पानी है इसके लिए रिसर्च जारी है

18. पृथ्वी पर होने वाले ज्वार भाटा, चंद्रमा के गुरुत्वाकर्षण की वजह से ही होते हैं

19. जब धरती, सूर्य और चंद्रमा के बीच आ जाती है तो चंद्र ग्रहण होता है

20. हमारा चंद्रमा 4.5 Billion (साढ़े चार अरब) साल पुराना है

21. चंद्रमा पूर्व में उगता है और पश्चिम में छिपता है

22. रॉकेट से चंद्रमा तक जाने में 13 घंटे लगते हैं। इतनी दूर कार से जाने में करीब 130 दिन लगेंगे।

23. चंद्रमा का क्षेत्रफल अफ्रीका महाद्वीप के क्षेत्रफल के ठीक बराबर है

24. चंद्रमा के धरातल पर पहाड़, खाई और बड़े विशाल गड्ढे हैं। वैज्ञानिकों का मानना है कि चंद्रमा पर उल्का पिंडों के टकराने से ये गड्ढे बने हैं।

25. चंद्रमा पर नील आर्मस्ट्रॉन्ग के पाँव के निशान आज भी बने हुए हैं और वैज्ञानिक मानते हैं कि 10 करोड़ साल तक ये निशान ऐसे ही बने रहेंगे क्योंकि चंद्रमा पर हवा नहीं है जो पैर के निशान मिटा सके।

26. चन्द्रमा के पास अपनी रौशनी नहीं है। चंद्रमा सूरज की रौशनी से ही प्रकाशित होता है

27. अगर सूरज ना होता तो हम कभी चंद्रमा को भी नहीं देख पाते।

28. पिछले 41 सालों से चंद्रमा पर कोई व्यक्ति नहीं गया

29. चंद्रमा गोल नहीं है, इसका आकार अंडाकार है।

30. चंद्रमा पर 6 झंडे गाढ़े जा चुके हैं जिनमें से 5 अभी भी गढे हुए हैं

31. बुज एल्ड्रिन (Buzz Aldrin) चंद्रमा पर पेशाब करने वाले पहले व्यक्ति हैं।

32. अमेरिका ने एक बार चंद्रमा पर परमाणु बम गिराने का सोचा था ताकि वो दुनिया को अपनी पॉवर दिखा सके।

33. अगर चंद्रमा नहीं होता तो धरती पर दिन केवल 6 घण्टे का होता।

34. चंद्रमा की मिटटी में बारूद जैसी गंध आती है

35. चंद्रमा पर जाने वाले वैज्ञानिकों को आइसलैंड में ट्रेनिंग दी जाती है।

दोस्तों चंद्रमा से जुड़ी ये रोचक जानकारियां आपको कैसी लगीं ? ये जानकारियां हमने आपके लिए कई जगह से रिसर्च करके इकट्ठी की हैं। अगर आपके पास भी कोई रोचक जानकरी है तो आप हमें कॉमेंट करके बता सकते हैं। हिंदीसोच की सभी जानकारियां अपने ईमेल पर पाने के लिए अभी सब्सक्राइब करें

0 Replies to “About Moon In Hindi Essay”

Lascia un Commento

L'indirizzo email non verrà pubblicato. I campi obbligatori sono contrassegnati *